विवाह समारोह में अधिकतम 100 तथा अंतिम संस्कार में एकत्र हो सकेंगे अधिकतम 20 व्यक्ति

402

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

जिला मजिस्ट्रेट अविचल चतुर्वेदी ने दिए आदेश

सीकर, जिला कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट अविचल चतुर्वेदी ने आदेश जारी कर विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कोरोना संक्रमण को महामारी घोषित करने तथा राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण की गम्भीर स्थिति से मानव जीवन व स्वास्थ्य रक्षा को लगातार बने खतरे एवं इसकी रोकथाम के लिए दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत सीकर जिले की सम्पूर्ण सीमा क्षेत्र में निषेधाज्ञा लागू की है। आदेशानुसार जिले में सभी प्रकार के मेले, जुलूस, धार्मिक एवं सामाजिक उत्सवों का आयोजन बिना संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की अनूज्ञा के नहीं होगा।जिले में यदि विदेश से एवं अन्य राज्य से भारतीय नागरिक प्रवेश करता है तो उसके स्वास्थ्य की चिकित्सकीय जांच , स्क्रीनिंग नजदीकी चिकित्सालय में करवाई जानी आवश्यक होगी एवं बिना चिकित्सा जांच, स्कीनिंग के जिले में निवास नहीं करेगा। कोरोना वायरस के संबंध में कोई अफवाह नहीं फैलायेगा, लोकडाउन , अनलॉक के दौरान कोई भी व्यक्ति आवश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी नहीं करेगा एवं एमआरपी से अधिक मूल्य वसूल नहीं करेगा। राज्य सरकार, भारत सरकार द्वारा समय-समय जारी एडवाईजरी एवं आदेश, डीएमसी के तहत जारी आदेशों की पूर्ण पालना करनी होगी। कंटनेमेंट जोन में लॉक डाउन प्रभावी रहेगा। कंटेनमेंट जोन में कड़े प्रतिबंध उपायों की सख्ती से अनुपालना करवाई जायेगी। केवल आवश्यक गतिविधियों के अनुमत होगी। धार्मिक स्थलों को 7 सितम्बर 2020 से आमजन के लिए खोले जाने के लिए गाईड लाईन जारी की गई है। जिसके अनुसार कंटेमेंट जोन, कफ्र्यू क्षेत्र में स्थित धार्मिक स्थलों को खोले जाने की छुट अनुमत नहीं होगी। यह भी स्पष्ट किया जाता है कि धार्मिक स्थलों को खोले जाने का तात्पर्य धार्मिक आयोजन, धार्मिक जूलुसों की अनुमति बिलकुल नहीं है। जिले में 65 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्ति सःरूगणता वाले व्यक्ति, गर्भवती महिलायें और 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे आवश्यक जरूरतों एवं स्वास्थ्य आवश्यकताओं की पूर्ति के अतिरिक्त घर पर ही रहेंगे। ऎसी स्थिति में ऎसे व्यक्तियों से स्थानीय प्रशासन एवं पुलिस सहानूभुति पूर्वक व्यवहार करेंगे। सार्वजनिक स्थान, कार्य स्थलों एवं परिवहन के प्रभारी सभी व्यक्ति सामाजिक दूरी कम से (कम 6 फीट)की पालना सुनिश्चित करेंगे।

  • जिले में विवाह संबंधी आयोजन के लिए आयोजनकर्ता पर निम्न शर्ते लागू होगी-
    उपखण्ड मजिस्ट्रेट को पूर्व सूचना देनी होगी। कार्यक्रमों के दौरान सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जायेगी। फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा‘ नो मास्क नो एन्ट्री‘‘ की सख्ती से पालना की जावेगी।
  • स्क्रीनिंग एवं स्वच्छता सुनिश्चित की जायेगी- प्रवेश एवं निकास के बिन्दुओं पर थर्मल स्क्रीनिंग, हैण्डवॉश एवं सेनेटाईजर के प्रावधान किये जायेंगे।
    सामान्य सुविधाओं एवं मानव सम्पर्क में आने वाले सभी बिन्दुओं जैसे रैलिंगस, डोर हैण्डलस आदि की बार-बार सेनेटाईज की जायेगी। यह सुनिश्चित किया जायेगा कि आमंत्रित मेहमानों (अतिथियों) की संख्या 100 से अधिक नहीं होगी। अंतिम संस्कार, अंतिम विधियों से संबंधित अवसर पर सामाजिक दूरी सुनिश्चित की जायेगी और 20 से अधिक व्यक्तियों को अनुमति नहीं दी जायेगी। कोई भी व्यक्ति किसी अन्य प्रकार के सामाजिक, राजनितिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृितक, धार्मिक समारोह, अन्य सभी का आयोजन बगैर संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की अनुमति के बिना नहीं करेगा। विद्यमान परिस्थितियों में यह प्रतिबंधात्मक आदेश तत्काल लागू किया जाना आवश्यक है एवं इन परिस्थितियों में उन व्यक्तियों, जिनके विरूद्ध यह आदेश निर्दिष्ट है, पर तत्काल सूचना की तामील सम्यक रूप से कराने की गुंजाईश नहीं है, इसलिए यह आदेश धारा 144(2) सीआरपीसी के तहत एक पक्षीय पारित किया जा रहा है। यह आदेश 21 नवम्बर 2020 की सायं 6 बजे से लागू होकर अग्रिम आदेश तक प्रभावी रहेगा। इस आदेश का उल्लघंन करने वाले व्यक्ति, व्यक्तियों पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अन्तर्गत अभियोग चलाया जा सकेगा।
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.