एफर्ट्स के सौजन्य से जिला कलेक्टर ने किये चेक वितरित

298

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

अनुसूचित जाति में आर्थिक रूप से कमजोर प्रतिभाओं को

झुंझुनू , अंबेडकर फंड फॉर टैलेंटेड स्टूडेंट्स संस्था एफर्ट्स झुंझुनू के सदस्य पवन कुमार आलड़िया क्यामसर ने बताया कि टीम एफर्ट्स द्वारा अनुसूचित जाति में आर्थिक रूप से कमजोर प्रतिभाओं की शिक्षा के लिए शुरू की गई मुहिम के चैक वितरण जिला कलेक्टर रवि जैन झुंझुनू ने अपने कार्यालय में बच्चों को चैक वितरित किए। इस मौके पर कलेक्टर साहब ने कहा कि ऐसी संस्था को मैं पहली बार देख और सून रहा हूं जो कि बच्चों को आर्थिक धन के अभाव के कारण अपने सपने पूरे नहीं कर पाते हैं उनके सपनों को पूरा करने एवम् उनको आगे बढ़ाने के लिए कोचिंग के लिए सहायतार्थ राशि उपलब्ध करवा रही है। कलेक्टर ने टीम एफर्ट्स की अपनी तरफ से और प्रशासन की तरफ से हर संभव मदद करने का विश्वास दिया। प्रारंभिक डीईओ पितराम सिंह काला ने इस अवसर पर माननीय कलेक्टर साहब का वंचित प्रतिभावान बच्चों को समय देने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया।और बताया कि यह संस्था समाज के उन लोगों की सोच है जो कि आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को आगे बढ़ाने के लिए प्रयासरत है और मुझे खुशी है कि मैं भी इस टीम का एक हिस्सा हूं। टीम सदस्य अजय काला ने बताया कि टीम एफर्ट्स द्वारा झुंझुनू जिले में से आर्थिक रूप से कमजोर 11 प्रतिभाओं का चयन किया गया। टीम सदस्य सीताराम बास बुडाना ने बताया कि संस्था ने जिले भर से अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं से आवेदन मांगे थे। प्राप्त आवेदन पत्रों की जांच कर 11 बच्चों का चयन किया गया है। यह बच्चे आईआईटी, पुलिस,पटवारी,रीट, शिक्षक भर्ती की तैयारी कर रहे हैं। जिनको चैक वितरित किए गए। उनका विवरण निम्न प्रकार है संदीप पुत्र स्वर्गीय निहाल सिंह गांव अलीपुर को आठ हजार,प्रियंका पुत्री स्वर्गीय सुमेर सिंह वारिसपुरा को पांच हजार, पूजा, अनुजा पुत्री स्वर्गीय ओम प्रकाश केहरपुरा को ग्यारह हजार, लोकेश पुत्र कृष्ण कुमार निर्माणों की ढाणी को बीस हजार, द्रोपदी पत्नी स्वर्गीय चंद्र सिंह मालसर को दौ हजार,संदीप कुमार पुत्र राजेंद्र सिंह लीखवा,मोना गर्वा पुत्री स्वर्गीय सुरेश गर्वा हनुतपुरा को बीस हजार,रमन कुमार पुत्र जवाहरलाल उदावास को आठ हजार, निकिता पुत्री सुभाष चंद्र कारी को बीस हजार, धर्मेंद्र पुत्र स्वर्गीय सावंत राम जाखल को दस हजार की मदद की गई।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.