अवैध हथियार तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश

245

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

दस पिस्टल सहित छ आरोपी गिरफ्तार

झुंझुनू, जबसे जिला पुलिस अधीक्षक जगदीश चंद्र शर्मा ने झुंझुनू में अपना पदभार ग्रहण किया है तब से लगता है कि जिले के बदमाशों के उल्टे दिन शुरू हो गए हैं। जिला पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में पुलिस को विभिन्न मामलों में एक के बाद एक सफलताएं मिल रही हैं इसी कड़ी में आज शुक्रवार को जिला पुलिस अधीक्षक कार्यालय में प्रेस वार्ता आयोजित कर जिला पुलिस अधीक्षक जगदीश चंद्र शर्मा द्वारा अवैध हथियार तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर दस पिस्टल सहित छ आरोपी गिरफ्तार करने की घटना का खुलासा किया गया। जिसके अनुसार गत दिनों हुई फायरिंग की घटना में वांछित आरोपी महिपाल पुत्र लक्ष्मण राम जाति मेघवाल निवासी दीपलवास को पुलिस थाना सदर झुंझुनू द्वारा एक पिस्टल व दो कारतूस व एक अपाचे मोटरसाइकिल के साथ उदावास जोहड़ से गिरफ्तार किया गया। पुलिस द्वारा गिरफ्तार शुदा आरोपी महिपाल से गहनता से पूछताछ के लिए सिटी सीओ लोकेंद्र दादरवाल, सीओ ग्रामीण नीलकमल, थानाधिकारी सदर भंवरलाल, शहर कोतवाल गोपाल सिंह ढाका, संचित निरीक्षक पुलिस लाइन सुरेंद्र देगड़ा, थानाधिकारी मलसीसर अंकेश कुमार को आरोपी से पूछताछ करने के निर्देश दिए गए। जिसमें आरोपी महिपाल के घर से चार पिस्टल, चार मैगजीन, नो जिंदा कारतूस, बरामद किए गए तथा आरोपी महिपाल के द्वारा बताया गया कि उसने भूपेंद्र पुत्र मनोहर सिंह निवासी उदावास थाना सदर, प्रवीण पुत्र राजेंद्र निवासी दीपलवास, संदीप पुत्र जगमाल सिंह निवासी हनुमानपुरा, सरजीत पुत्र भागीरथ सिंह जाति जाट निवासी चरणवासी, विकास पुत्र फतेह सिंह निवासी लंबोर बड़ी पुलिस थाना राजगढ़ को एक-एक पिस्टल रिवाल्वर एवं कारतूस बेचा गया है। इस पर अलग-अलग टीम गठित कर आरोपी महिपाल द्वारा दी गई सूचनाओं का सत्यापन करवाया गया जिसके बाद हथियारों को बरामद किया गया। इस प्रकार पुलिस टीम द्वारा आरोपी महिपाल से व उसके द्वारा दी गई सूचनाओं के अनुसार छ आरोपियों को गिरफ्तार कर कुल 9 पिस्टल, एक देसी रिवाल्वर, चार मैगजीन, 20 जिंदा कारतूस बरामद कर पांच कर प्रकरण पुलिस थाना सदर व एक प्रकरण पुलिस थाना मलसीसर पर दर्ज करने में सफलता हासिल की। आरोपी महिपाल से की गई पूछताछ में खुलासा हुआ है कि हथियारों की तस्करी के पीछे एक संगठित गिरोह काम कर रहा है जिसमें मुख्य सरगना मनदीप उर्फ़ मदिया निवासी तिलोका का बास पुलिस थाना बिसाऊ जो न्यायिक अभिरक्षा में चल रहा है उसके संपर्क में मध्य प्रदेश के कुछ हथियार सप्लायर है। महिपाल द्वारा प्रत्येक पिस्टल 40 से ₹50000 तक बेचे जाते हैं एवं बिक्री से प्राप्त राशि मनदीप उर्फ मदिया के कहे अनुसार विभिन्न व्यक्तियों एवं बैंक खातों में जमा करवा दी जाती है। इस प्रकार अवैध हथियार सप्लाई की एक पूरी श्रृंखला काम करती है। लॉक डाउन के दौरान संगठित गिरोह द्वारा हथियार सप्लाई करने वाली गैंग का खुलासा एवं बड़े स्तर पर हथियारों की बरामदगी का राजस्थान में सबसे प्रमुख मामला है।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More