जिला मुख्यालय पर कलेक्ट्रेट के बाहर धरना प्रदर्शन

390

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

प्रदेश में महिला एवं दलितों पर अत्याचारों के विरोध में

झुंझुनू , जिला मुख्यालय पर कलेक्ट्रेट के बाहर आज भारतीय जनता पार्टी ने 1 दिन का धरना प्रदर्शन किया। प्रदेश में बढ़ रहे महिला एवं दलितों पर अत्याचारों के विरोध में यह सांकेतिक धरना दिया गया। धरना स्थल पर सांसद नरेंद्र कुमार, सूरजगढ़ विधायक सुभाष पूनिया, जिलाध्यक्ष पवन मावंडिया,प्रदेश मंत्री मुकेश दाघिच सहित पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। वक्ताओं ने राज्य की कांग्रेस सरकार को कानून व्यवस्था में फैल घोषित किया और कहा कि दलितों के विरुद्ध जितनी घटनाएं इन पिछले 8 महीनों में हुई है उतनी पहले कभी नहीं हुई। साथ ही महिलाओं के साथ हो रहे अत्याचार को लेकर भी इसमें चिंता व्यक्त की गई। धरने प्रदर्शन के बाद भाजपा के प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल के नाम अतिरिक्त जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में मांग की गई कि बढ़ रही अपराधी घटनाओं के लिए फास्ट ट्रैक में तत्काल निरंतर सुनवाई कर 3 माह में इनका निस्तारण करें तथा थानागाजी जैसी लोमहर्षक घटना में क्षतिपूर्ति के मापदंड तय किए गए उसी अनुरूप अन्य घटनाओं को भी समान रूप से पीड़ितों को सरकारी नौकरी क्षतिपूर्ति प्रदान की जाए। वहीं दूसरे मामले में स्वदेशी जागरण मंच द्वारा प्रधानमंत्री के नाम अतरिक्त जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में बताया गया कि भारत सरकार द्वारा 370 हटाने के बाद से चीन द्वारा पाकिस्तान को लगातार सहयोग दिया जा रहा है ऐसी स्थिति में चीनी कंपनियों को 12-14 अक्टूबर को जम्मू कश्मीर में आयोजित होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टमेंट सबमिट में सम्मिलित नहीं किए जाने की मांग की। साथ ही बताया कि चीनी कंपनियां भारतीय अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा कर हमारे छोटे बड़े उद्योगों को चौपट करने का काम भी कर रही हैं। स्वदेशी जागरण मंच ने तत्काल प्रभाव से चीनी कंपनियों के बहिष्कार का आह्वान किया। साथ ही यह मांग भी की गई कि चीनी कंपनियों को जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित क्षेत्र में किसी भी प्रकार के निवेश से रोका जाए तथा जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित क्षेत्र में भारतीय कंपनियों में भी किसी प्रकार के चीनी निवेश को प्रतिबंधित किया जाए। स्वदेशी जागरण मंच द्वारा यह ज्ञापन मंच के जिला संयोजक राजकुमार शर्मा के नेतृत्व में दिया गया। गौरतलब है कि इससे पूर्व स्वदेशी जागरण मंच के कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध प्रदर्शन कर चीन का पुतला दहन भी किया गया।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More