जिले के इस कस्बे में लगे है जगह जगह कचरे के ढेर

544

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

ग्रामीणों ने लगाया पंचायत पर नाकारा साबित होने का आरोप

इस्लामपुर [जे पी गर्वा ] कस्बे में गंदगी का आलम कुछ इस कदर है जिधर देखो उधर कचरे ही कचरे के ढेर नजर आते हैं। कस्बे के वार्ड नंबर 4 में जलदाय विभाग की बनी हुई टंकी के नीचे कचरे का बड़ा ढेर लगा हुआ है। आसपास से सफाई करने वाले यहां पर घरों का गंदा कचरा ला कर डालते हैं जिसके अंदर संक्रमित चीजें भी होती हैं इसी कचरे के बीच जलदाय विभाग के पानी सप्लाई करने के वाल्व भी लगे हुए हैं जिनको खोलने एवं बंद करने में कर्मचारियों को परेशानी का सामना तो करना पड़ता है ही साथ ही किसी भी तरह की लीकेज होने से गंदे पानी की सप्लाई होने से बीमारियां फैलने का खतरा भी बना हुआ है वही कस्बे के चूणा चौक स्थित बालिका विद्यालय के पास एक स्थान पर कचरे के ढेर लगे रहते हैं कि उनके पास से दुपहिया वाहन लेकर निकलते है तो भी दुर्गन्ध दूर दूर तक पीछा नहीं छोड़ती है। गंदगी और बदबू के आलम में विद्यालय के बच्चों को गुजरना पड़ता है। इसी प्रकार तिलावा कुआं जाने वाले सड़क मार्ग पर जगह-जगह कचरे के ढेर लगे हुए हैं। कई स्थानों पर लाखों रुपए खर्च करके सड़के तो बना दी गई लेकिन व्यवस्थित रूप से नालियां नहीं बनाई गई जिसके कारण से सीमेंटेड सड़कों पर जल और गंदगी का आलम दिखाई पड़ता है। जहा पर नालिया बना दी गई है वो कचरे से भरी पड़ी रहती है उनसे ओवरफ्लो होकर सड़को पर गन्दा पानी फैला रहता है। वहीं स्थानीय लोगों ने बताया कि ग्राम पंचायत सरपंच को इस बारे में कई बार सूचित कर दिया गया उसके बावजूद भी कोई कार्रवाई देखने को नहीं मिली। वही पावर धाम मंदिर के पुजारी सुरेश शर्मा ने बताया कि कस्बे के गंदे पानी की निकासी के लिए बनाया गया महत्वाकांक्षी नाला भी पंचायत की उपेक्षा का शिकार है। जगह जगह से वह कचरे से भरा पड़ा है जिसके चलते मन्दिर मार्ग गंदे पानी के फैलने से अवरुद्ध हो जाता है। स्थानीय सरपंच को इस बारे में कई बार सूचित करवा दिया गया है लेकिन हालात जस के तस बने हुए है। सड़क के किनारे कचरे के ढेर लगे हुए हैं जिनसे से गुजरना भी बदबू के कारण मुश्किल हो चला है। कस्बे के1- 2 स्थान पर जहां पर पंचायत के द्वारा कचरा डालने के लिए ट्रॉली लगाई गई है वो ट्रॉली भर जाती हैं लेकिन उनको वहां से हटाकर उनका निस्तारण कराने वाला कोई नहीं है। जिसके चलते ट्रॉलियों के आसपास के स्थान पर भी कचरे के ढेर लग जाते हैं और आवारा पशु उनमे अठखेलिया करते है।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More