कश्मीर के लिए डॉ. मुखर्जी का बलिदान नहीं भुलाया जा सकता – चेतानी

183

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती मनाई

भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंति शनिवार को भारतीय जनता पार्टी कार्यालय सीकर में मनाई गई। कार्यक्रम में सर्वप्रथम जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के चित्र पर कार्यकर्ताओं ने पुष्पांजलि अर्पित की, तत्पश्चात हुई सभा में वक्ताओं ने स्व. मुखर्जी के भारत की अखण्डता के प्रति उनके योगदान के बारे में कार्यकर्ताओं को बताया। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष विष्णु चेतानी ने की। जानकारी देते हुए गिरीश प्रधान ने बताया कि इस दौरान बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने डॉ. मुखर्जी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चेतानी ने कहा कि डॉ. मुखर्जी के कश्मीर के बारे में दृष्टिकोण को सभी कार्यकर्ताओं को जानकारी होनी चाहिए। उन्होंने अपना सर्वोच्च बलिदान देश की अखण्डता के लिए दे दिया। कश्मीर में परमिट राज के खात्मे का श्रेय डॉ. मुखर्जी को ही जाता है। हम सभी को अधिक से अधिक उनके बारे में जानकारी होनी चाहिए ताकि कश्मीर समस्या को अच्छी तरह से समझा जा सके। कार्यक्रम को जिला महामंत्री नन्दकिशोर सैनी, राजकुमार जोशी, रतनलाल सैनी, ओमप्रकाश बिजारणियां, भंवरलाल जांगिड़ आदि ने भी संबोधित किया और डॉ. मुखर्जी के बताये मार्ग पर चलने का आह्वान किया। इस दौरान दुर्गा हठवाल, सुरेश फागलवा, अशोक चौधरी, जगदीश कुमावत, निश्चय कुमार जीनगर, दीपक सोनी, अनिल डोकवाल, संजय नानी, मोहम्मद अली खत्री, बालकिशन जोशी, जितेन्द्र जोशी, गोकुलप्रसाद माथुर, प्रियदर्शनक कौशिक, अशोक अग्रवाल सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित हुए।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More