महिला सशक्तिकरण के लिए 1000 करोड़ का कोष शुरू

213

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश की महिलाओं को इंदिरा महिला शक्ति निधि योजनाओं की दी सौगात

जयपुर, राज्य सरकार के एक वर्ष पूरे होने पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश की महिलाओं को इंदिरा महिला शक्ति निधि योजनाओं की सौगात दी हैं। इस महिला सशक्तिकरण समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश की महिलाओं को विश्वास दिलाया है कि आगामी 4 वर्षों में महिला सशक्तिकरण की दिशा में और भी कई सौगातें दी जाएंगी और बजट में कोई कमी नहीं रखी जाएगी।
-एक खास रिपोर्ट
एक करोड़ तक का ऋण
राजस्थान प्रदेश की महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज आय एम शक्ति यानी कि इंदिरा महिला शक्ति निधि योजनाओं की सौगात दी हैं। इस योजना के तहत महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए और आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए एक करोड़ तक का ऋण मिल सकेगा। प्रदेश भर के 5000 स्वयं सहायता समूह यानी कि 50000 महिलाओं को बड़ा लाभ हो सकेगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आई एम शक्ति लोगों का विमोचन किया साथ ही बालिकाओं के उपयोग की निर्देशिका भी प्रदेश की बालिकाओं को समर्पित की। इस महिला सशक्तिकरण समारोह में मुख्य सचिव डी बी गुप्ता ने राज्य सरकार की महिला और जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। साथ ही देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की शख्सियत की सराहना की।
-घुंघट हटाओ अभियान के प्रति जागरूकता
महिला सशक्तिकरण समारोह में राज्य सरकार के मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास, गोविंद सिंह डोटासरा, सुखराम बिश्नोई और विधानसभा में सरकारी उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी, मुख्य सचिव डी बी गुप्ता, महिला बाल विकास विभाग के सचिव डॉ केके पाठक, बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष संगीता बेनीवाल मंच पर मौजूद रहे, तो वहीं कार्यक्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप धनकड़, पूर्व महापौर ज्योति खंडेलवाल, विधायक अमित चाचान भी मौजूद रहें। राज्य भर से आई महिलाओं को ममता भूपेश ने राज्य सरकार की इस महत्वपूर्ण योजना की जानकारी दी और घुंघट हटाओ अभियान के प्रति जागरूकता लाने की बात कही।
-महिला सशक्तिकरण की दिशा में इंदिरा गांधी के प्रयास
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के महिला सशक्तिकरण की दिशा में किए गए कार्यों का जिक्र करते हुए उनकी हिम्मत की भी जमकर सराहना की। महिलाओं से इंदिरा गांधी के जीवन से प्रेरणा लेने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने पाकिस्तान के दो टुकड़े किए बांग्लादेश बनवा दिया, खालीस्तान नहीं बनने दिया। इंदिरा गांधी ने कहा था उनकी जान भी चली जाए तो उन्हें परवाह नहीं, उनके खून का एक-एक कतरा देश के लिए हैं। मुख्यमंत्री गहलोत ने महिलाओं के लिए अधिकाधिक फंड देने के संकेत देने के साथ ही महिलाओं से कहा कि वे पुरुषों से कहीं भी कम नहीं है बस अपने अधिकार के प्रति सजग रहे. ।
-पढ़ाई के साथ ही घुंघट हट सकता है
गहलोत ने कहा कि एक जमाना था जब पुरुषों का वर्चस्व होता था, लेकिन अब जमाना बदल गया हैं। मुख्यमंत्री गहलोत ने राजीव गांधी के विजन की सराहना करते हुए कहा कि महिलाएं पंचायत और निकायों में प्रमुख बनने लगी हैं। वह भी राजीव गांधी की दूरदर्शी सोच की वजह से ही हुआ हैं। मुख्यमंत्री गहलोत ने सूचना क्रांति पर भी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के विजन को महिलाओं के सामने रखा उन्होंने कहा कि महिलाएं अधिक से अधिक उच्च शिक्षा प्राप्त करें और पढ़ाई के साथ ही घुंघट हट सकता हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार का उद्देश्य है कि कोई भी बेटी पढ़ाई से दूर ना रहे। मुख्यमंत्री गहलोत ने कार्यक्रम के अंत में भी तमाम पुरुषों से आह्वान किया कि घूंघट हटाने के प्रति जागरूकता लेकर आएं और समाज में महिलाओं का घूंघट हटवाए। महाराष्ट्र और गुजरात जैसे राज्यों से सीख लेकर महिलाओं को आत्मनिर्भर स्वावलंबी बनाए।
-आई एम शक्ति योजना महिलाओं के लिए एक बड़ी सौगात
कुल मिलाकर कहा जाए तो राज्य सरकार की आई एम शक्ति योजना महिलाओं के लिए एक बड़ी सौगात है बस जरूरत है महिलाओं को राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के प्रति जागरूक रहना होगा। जो महिलाएं सरकार की योजनाओं को जानती है वह अन्य महिलाओं तक भी इस तरीके की योजनाओं की जानकारी साझा करें।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More