पुलिस महानिरीक्षक ने किया सनसनीखेज ब्लाईन्ड मर्डर का खुलासा

285

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

6 वर्ष पूर्व गई लापता लड़की, जिसकी आश उसके घरवालों द्वारा भी छोड़ दी गई थी की हत्या का खुलासा

सीकर, पुलिस महानिरीक्षक जयपुर एस.सैंगाथिर, पुलिस अधीक्षक गगनदीप सिंगला ने मंगलवार को सनीखेज ब्लाईन्ड मर्डर का खुलासा किया है । उन्होंने बताया कि पुलिस थाना रानोली के मुकदमा 221/19 धारा 307 भा.दं.सं. व 3/25 आम्र्स एक्ट में गिरफ्तार शुदा मुलजिम ओमप्रकाश जाट पुत्र भानाराम जाति जाट उम्र 22 साल निवासी सामोता की ढाणी श्योपुरा थाना श्रीमाधोपुर जिला सीकर ने अपने पूछताछ में पवन कुमार उ.नि. थानाधिकारी थाना रानोली को दौराने पुछताछ में बताया कि आज से 5-6 साल पहले मेरे दोस्त विशन उर्फ विष्णू रूलानिया पुत्र श्यामलाल जाति जाट निवासी ढाणी जोहडा वाली तन धीरजपुरा थाना रींगस ने उसकी महिला मित्र मोनिका उर्फ मोना उर्फ मोनू जो दर्जी जाति की थी, ओर राधाकिशनपुरा सीकर की थी, को राधाकिशनपुरा सीकर से उसके घर वालों को बिना बताये मोटर साईकिल से मैं व विशन अपहरण कर रींगस लेकर आये और विशन उर्फ विष्णु द्वारा किराये पर लिये गये कमरे पर लेकर आये, जहां वो दोनों कमरे में रहे व मैं छत पर चला गया। थोडी देर बाद विशन ने मुझे बुलाया। मैं नीचे कमरे में गया तो मोनिका मृत पड़ी थी, जिस पर विशन ने बताया कि उसने मोनिका का उसी के स्टोल (चुन्नी) से गला दबाकर हत्या करदी, जिस पर हमने विचार कर मोनिका की लाश विशन के गांव धीरजपुरा स्थित उसके खेत में खड्डा खोद कर दबा दिया । उसने यह भी बताया कि व उसका खेत तो बता सकता है पर मोनिका की लाश किस जगह दबायी वह जगह नहीं बता सकता अब वो जगह याद नहीं है, विशन ही बता सकता है। क्योंकि जब लाश दबायी उस समय रात का समय था। थानाधिकारी द्वारा गोपनीय रूप से इस बात की मालुमात की तो उक्त लड़की मोना उर्फ मोनिका उर्फ मोनू नाम की लड़की थी जो जाति से दर्जी थी उसके पिताजी कानाम काशीप्रसाद है वह पीछले 5-6 साल से अपने घर से लापता है जिस पर थानाधिकारी रानोली पवन कुमार ने पुलिस थाना उघोग नगर में मु. नं. 472/19 धारा 365,302,201,120 बी भा.दंसं. में दर्ज करवाया।
घटना की गंभीरता, क्रुरता और संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुये एस.सैंगाथिर महानिरीक्षक पुलिस जयपुर रैंज जयपुर के निर्देशन एवं डॉ. गगनदीप सिंगला पुलिस अधीक्षक सीकर के मार्गदर्शन में एक विशेष टीम देवेन्द्र शर्मा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुख्यालय सीकर के नेतृत्व में रामावतार सोनी आरपीएस उप अधीक्षक वृत नीमकाथाना, पवन कुमार चौबे थानाधिकारी रानोली, मनीष शर्मा प्रभारी साईबर सैल सीकर गठित की गई। टीम ने बताया कि 28 जून 2019 को महेन्द्र मावलिया नांगल निवासी पर राजू ठेहट गैंग के ईनामी बदमाश ओमप्रकाश उर्फ ओपी द्वारा जान से मारने की नियत से फायरिंग की थी। जिस पर थाना रानोली में मु.नं. 221/19 दर्ज किया गया था। ओमप्रकाश को मुकदमें में गिरफ्तार किया गया तो दौराने पूछताछ उसने बताया कि आज से लगभग 6 साल पहले मैं व मेरा दोस्त बिशन पुत्र श्यामलाल रूलानियां निवासी ढाणी जोहड़ा वाली तन धीरजपुरा राधाकिशनपुरा सीकर से एक लड़की को मोटर साईकिल पर लेकर आये थे जिसकों रींगस में श्याम टेन्ट हाउस वाले के मकान में जहां हम किरायें पर रहते थे वहां पर बिशन ने उसकी हत्या कर दी थी । उसके बाद लाश को मैं व बिशन मोटर साईकिल पर ले जाकर बिशन के खेत में गाड दिया था। इस पूछताछ पर थानाधिकारी रानोली द्वारा थाना उद्योग नगर सीकर में मु. नं. 472/19 अन्तर्गत धारा 365, 302, 120 बी भादंसं में दर्ज करवाया व तफतीश रामावतार सोनी आरपीएस वृताधिकारी वृत नीमकाथाना के जिम्मे की गयी।
पुलिस अधीक्षक द्वारा गठित टीम द्वारा घटना की गोपनीय रूप से जांच की गई तो यह तथ्य सामने आया कि सीकर में राधाकिशनपुरा सीकर में वार्ड नं. 39 गली नं. 3 में काशी प्रसाद दर्जी रहता है जिसके दो बेटियां थी उनमें से छोटी बेटी मोनिका उर्फ मोनू जिसके वर्ष 2011, 2012 में झरिया झारखण्ड में शादी कर दी थी शादी के कुछ महीनों बाद तलाक हो गया था उसके बाद में वह मोनिका सीकर अपने पीहर में रह रही थी। इसी दौराने उसकी विष्णू उर्फ बिशन रूलानियां निवासी ढाणी जोहडा वाली तन धीरजपुरा से जानकारी हो गयी। जिसके साथ रहने के बाद अपने भाई मुकेश की शादी होने के कारण वह वापस अपने पापा के पास सीकर आ गयी थी। तत्पश्चात मृृतका मोनिका द्वारा आरोपी बिशन को अपने साथ रखने की बात करने लगी। जिस पर आरोपी बिशन द्वारा मृतका मोनिका से पीछा छुडाने के लिये उसकी हत्या की साजिश रची। इसी साजिश के तहत जुलाई, अगस्त के महीने में लगभग 12-1 बजे बिशन व औमप्रकाश दोनों एक मोटर साईकिल पर उसको बैठाकर सीकर से लाये तथा सकों रींगस में लिये किराये के कमरे में लेकर गये। वहां पर शाम को लगभग 5-6 बजे बिशन ने उसकी स्टोल चुन्नी से गला दबाकर हत्या कर दी थी। तब दोनों ने लाश को ठिकाने लगाने के लिए रींगस रेलवे स्टेशन के समीप से एक बक्सा खरीदा व उस बक्से में बैडशीट में लपेटकर लाश को रख दिया। कमरे के ताला लगाकर मोटर साईकिल पर बैठकर दोनों बिशन के खेत पर गये जहां पर बाजरे की फसल होने के कारण उचित जगह देखकर रूंझ के पेड के पास में फावडे से करीब 5 फीट गहरा गड्डा खेदा उसके बाद दोनों वापस रूम पर आये लाश को बक्से से खोलकर बैडशीट में लिपटी हुई मोटर साईकिल के बीच में रखकर बिशन के खेत में जहां पर गड्डा खेदा था वहां बैडशीट के सहित लाश को दबा दिया । जिस पर आरोपी बिशन पुत्र श्यामलाल रूलानियां ढाणी जोहड़ा वाली तन धीरजपुरा को गिरफ्तार किया गया। 6 अगस्त 2019 को आरोपी बिशन उर्फ विष्णू पुत्र श्यामलाल जाति जाट उम्र 28 साल निवासी ढाणी जोहडा वाली तन धीरजपुरा थाना रींगस जिला सीकर की ईतला पर सभी संभावित साक्ष्य एकत्रित करने के लिए मेडिकल बोर्ड सीकर, प्रशासनिक अधिकारी श्रीमाधोपुर तहसीलदार नईम उदीम, राज्य विधि विज्ञान प्रयोगशाला जयपुर व सीकर की टीम व जिला पुलिस अधीक्षक सीकर द्वारा गठित टीम द्वारा मौके पर आरोपी बिशन उर्फ विष्णू द्वारा बताये स्थान पर खड्डा खोदा जहां से मृतका मोनिका उर्फ मानू के चादर में लिपटा व पहने हुये कपडों सहित मादा कंकाल को बरामद किया गया, प्रकरण में अग्रिम अनुसंधान जारी है। आरोपियों का विवरण व आपराधिक रिकोर्ड – बिशन उर्फ विष्णू पुत्र श्यामलाल जाति जाट उम्र 28 साल निवासी जोहड़ वाली तन धीरजपुरा थाना रींगस, औमप्रकाश उर्फ ओपी पुत्र भाना राम जाति जाट उम्र 22 साल निवासी सामौता की ढाणी तन श्योपुरा थाना श्रीमाधोपुर जिला सीकर को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधीक्षक गगनदीप सिंगला ने बताया कि सनसनीखेज ब्लाईन्ड मर्डर के ख्ुालासे में पवन कुमार चौबे थानाधिकारी रानोली व मनीष शर्मा प्रभारी साईबर सैल सीकर की विशेष भूमिका रही। पुलिस टीम सीकर को महानिरीक्षक पुलिस जयपुर रैंज जयपुर द्वारा प्रकरण के खुलासे पर विशेष पुरूस्कार देने के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भिजवायें जा रहे है।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More