केंद्र सरकार के तीन कृषि कानून खेती व किसान को बर्बाद करने वाले- अमराराम

265

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

खाटूश्यामजी में माकपा का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर संपन्न

बाय, [विजेंद्र दायमा ] खाटूश्यामजी में भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी का दो दिवसीय जिला स्तरीय प्रशिक्षण शिविर हैदराबाद धर्मशाला में आयोजित हुआ!माकपा के खाटूश्यामजी में दो दिवसीय जिला स्तरीय प्रशिक्षण शिविर में आज माकपा राज्य सचिव व पूर्व विधायक अमराराम ने कहा कि कृषि राज्य का विषय होने के बावजूद केंद्र सरकार ने गलत तरीके से इन कानूनों को पारित कर दिया।उन्होंने कहा कि भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार ने राज्यसभा में माकपा सांसद रागेश द्वारा मत विभाजन की मांग करने के बावजूद संसदीय नियमों को ताक पर रखते हुए आवश्यक वस्तु अधिनियम,मंडी अधिनियम और कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग कानूनों को पास कर दिया। ये कानून पहले से संकट में फंसी हुई कृषि को और ज्यादा बर्बाद करने का काम करेंगे। आखिरकार यह कांग्रेस और भाजपा की कृषि नीतियां ही है जिनके कारण देश के 4 लाख किसान आत्महत्या कर चुके हैं और आज हर 12 घंटे में एक किसान आत्महत्या कर लेता है। मोदी सरकार द्वारा लाए गए इन कानूनों में समर्थन मूल्य पर फसल खरीदने का कोई जिक्र नहीं है।देश में कहीं भी अपनी उपज बेचने की बात कहकर केंद्र सरकार दरअसल किसानों को बाजार के बड़े खिलाड़ियों के रहमो-करम पर छोड़ने की साजिश रच रही है।कॉमरेड अमराराम ने कहा कि सरकार वास्तव में किसानों की हितैसी है तो वो स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू क्यों नहीं करती जिसमें किसान से उसकी उपज लागत से डेढ़ गुना मूल्य पर खरीदने का प्रावधान है। माकपा जिला सचिव किशन पारीक ने बताया कि दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में कृषि कानूनों व बिजली की दरों के खिलाफ संघर्ष,वर्तमान राजनीतिक स्थिति, कारपोरेट हिंदुत्व और आज का भारत तथा मार्क्सवाद की वैधता विषयों पर गहन विचार-विमर्श किया गया।पार्टी अब जमीनी स्तर तक के कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने का व्यापक अभियान छेड़ेगी!सीपीआईएम जिला कमेटी ने पंचायत राज संस्थाओं में पार्टी प्रत्याशियों को समर्थन देने के लिए आम मतदाताओं का आभार प्रकट किया है।
माकपा प्रवक्ता बृजसुंदर जांगिड़ ने कहा कि 25 अक्टूबर से तहसील स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलनों का आयोजन किया जाएगा जिनमें पार्टी के अलावा जन संगठनों के कार्यकर्ता भी भाग लेंगे।इन सम्मेलनों में नगर पालिका चुनाव,जिला परिषद व पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव,किसान विरोधी कृषि कानून,बिजली की दरों के खिलाफ आंदोलन की रूपरेखा को अंतिम रूप दिया जाएगा। कार्यकर्ता सम्मेलनों को राज्य सचिव अमराराम, किसान सभा प्रदेशाध्यक्ष व पूर्व विधायक पेमाराम, पार्टी जिला सचिव किशन पारीक व अन्य नेताओं द्वारा संबोधित किया जाएगा। इस दौरान एसएफआई प्रदेशाध्यक्ष सुभाष जाखड़, डीवाईएफआई राज्य सचिव झाबर सिंह राड़, पूर्व जिला परिषद सदस्य रेखा जांगिड़ सीपीआईएम जिला सचिव किशन पारीक, शंकरलाल थोरी,भागचंद लामिया, पार्षद प्रतिनिधि शंकरलाल बल़ौदा, सीआईटीयू जिला सचिव बृजसुंदर जांगिड़, हरफूल सिंह,रूघाराम, रामरतन बगड़िया, भगवान सहाय ढाका, सागर सामोता, सागर खाचरिया, सुभाष नेहरा सहित सैकड़ों माकपा कार्यकर्ताओं ने प्रशिक्षण लिया।

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.