चिकित्साताजा खबरसीकर

जमीन पर महिलाओं को लैटाने पर होगी प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई

Avertisement

जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक मंगलवार को जिला कलेक्टर सीआर मीना की अध्यक्षता में हुई। जिला कलेक्टेट स्थित सभागार में हुई बैठक में उन्होंने जिले के चिकित्सकों को अपने कार्य के प्रति मुश्तैद बताते हुए कहा कि आमजन को गुणवत्तापूर्ण सेवाएं व सुविधाएं उपलब्ध कराने में विभाग की मिसाल रैकिंग में जिला प्रदेश भर में शिखर पर बना हुआ है। उन्होंने कहा कि जिले में आमजन को गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सेवाएं व सुविधाएं उपलब्ध होनी चाहिए, क्योंकि सरकारी अस्पतालों में गरीब व्यक्ति ही इलाज कराने के लिए जाते है। इसलिए अस्पताल में खुशनूमा माहौल के साथ साफ सफाई भी होनी चाहिए और हैल्पिंग नेचर के साथ आमजन की सेवा करने के लिए उन्होंने सभी चिकित्सकों को प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि जिले में चिकित्सा सेवाओं को बेहतर करने के कार्य में जनप्रतिनिधियों, दानदाताओं का भी सहयोग लिया जाएगा और इस कार्य में प्रशासनिक स्तर पर विभाग का पूर्ण सहयोग करने का उन्होंने भरोसा दिलाया।
बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ अजय चैधरी ने कहा कि परिवार कल्याण राष्ट्रीय कार्यक्रम है और इसमें किसी भी प्रकार की कौताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। नसबंदी शिविर के दौरान किसी भी चिकित्सा संस्थान में महिलाओं को जमीन पर लैटाया गया तो संस्था के प्रभारी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई होगी। बैठक में उन्हांेने परिवार शिविर में शिविर में आमजन को गुणवत्तापूर्ण सेवाएं देने पर जोर देते हुए कहा कि गर्मी के मौसम को देखते हुए शिविर स्थल पर कूलर, गददे, ठंडे पानी आदि की पुख्ता व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होंने गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष कम उपलब्धि पर सख्त नाराजगी जताते हुए उन्होंने कम प्रगति वाले गोवटी, फतेहपुर, रोलसाहबसर, गारिंडा, मिर्जवास, शिश्यू, सरगोठ, खंडेला, झिगर छोटी के संस्था प्रभारी अधिकारी को आगामी माह में लक्ष्य के अनुरूप कार्य करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि लक्ष्मणगढ ब्लाॅक में इस साल अभी तक सबसे अधिक 12.75 प्रतिशत उपलब्धि अर्जित की गई है। इसके अलावा अन्य सभी ब्लाॅक पिछडे हुए हैं। उन्होंने सभी बीसीएमओ को नसबंदी शिविर से पूर्व संबंधित संस्था के प्रभारी से वार्ता कर व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने व टीम मूवमेंट आमजन के हितों को ध्यान में रखते हुए करने के निर्देश दिए। उन्होंने जीलो संस्थान में 11 एनएसवी केस कराने पर वहां के चिकित्सा अधिकारी प्रभारी की प्रशंसा करते हुए सभी को उनसे प्रेरणा लेने के लिए पे्ररित किया।

Related Articles

Back to top button