ताजा खबरराजनीतिसीकर

सीकर में सैनी (माली) समाज की हुई महापंचायत

Avertisement

आरक्षण सहित 11 सूत्री मांगों के लिए भरी हुंकार

सीकर, [प्रदीप सैनी ] शहर के रामलीला मैदान में 12 फीसदी आरक्षण सहित 11 मांगों को लेकर सैनी (माली) समाज की महापंचायत का आयोजन सोमवार हुआ। जिसमें आरक्षण सहित 11 मांगों के लिए समाज के लोगों ने हुंकार भरी। महापंचायत में प्रदेशभर से समाज के लोग पहुंचे। महापंचायत के लिए सैनी समाज के लोगों ने आज कारोबार बंद रखा। कृषि उपजमंडी सहित समाज के लोगों के बाजार में स्थित व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखकर सभी अपना काम छोड़कर महापंचायत का हिस्सा बनने के लिए पहुंचे। सभा को संबोधित करते हुए वक्ता अपनी मांगों को बुलंद करते हुए आंदोलन को प्रदेश स्तर से लेकर हर गांव ढ़ाणी तक ले जाने की हुंकार भर रहे हैं। सभा को राष्ट्रीय फुले ब्रिगेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रप्रकाश सैनी, भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक भादरा, गोपाल गहलोत, भाजयुमो पूर्व जिलाध्यक्ष रतन लाल सैनी, विधायक प्रत्याशी मंजू सैनी व पवन सैनी सहित कई वक्ताओं ने संबोधित किया। वक्ताओं ने कहा कि पिछले 70 सालों से राजनीतिक पार्टियां उनके वोट ले रही हैं, लेकिन सैनी समाज के उत्थान के लिए कोई काम नहीं किया हैं। सरकार ने गुर्जर, कुमावत समाज के लोगों के विकास के लिए बोर्ड बनाए लेकिन सैनी समाज पिछले 70 सालों से अपने विकास के लिए लड़ाई लड़ रहा है। ऐसे में अब एकजुट होकर सरकार से अपना हक़ मांगने के लिए हुंकार भरी हैं। उन्होंने आरक्षण सहित अपनी सभी मांगों को मनवाने के लिए सैनी समाज के लोगों को सिर गिनाने की जगह सिर कटाने के लिए भी तैयार रहने की बात कही। अशोक भादरा ने कहा कि प्रदेश के हर विधानसभा क्षेत्र में माली समाज की अच्छी खासी तादाद है जो राजनीति की दिशा तय करती है। अब इसी संख्या बल को समाज हित में एकजुट होकर काम करना होगा। रामलीला मैदान में महापंचायत के बाद समाज की ओर से शहर में रैली का आयोजन किया गया। जो रामलीला मैदान से कलेक्ट्रेट तक निकाली गई। जिसमें हाथ में झंडे लिए समाज के हजारों लोग नारे लगाते हुए शामिल हुए। रामलीला मैदान से रैली दुजोद गेट, घंटाघर, सूरजपोल गेट, जाट बाजार व स्टेशन रोड से होती हुई कलेक्ट्रेट पहुंची। शहर में हजारों लोगों के एक साथ उमड़े हुजूम से जगह-जगह जाम के हालात हो गए। जिधर से भी रैली निकली, वहीं वाहनों की लंबी कतारें लग गई। पैदल चालकों के लिए भी रास्ता पार करना मुश्किल हो गया। आलम ये रहा कि प्रदर्शन के बाद भी जाम की वजह से वाहन काफी देर तक रैंगते हुए चलते रहे। कलेक्ट्रेट पर काफी देर तक प्रदर्शन राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इसके बाद समाज के प्रतिनिधियों ने 11 सूत्रीय मांगों को पूरा करने की मांग को लेकर राज्यपाल और मुख्यमंत्री के नाम जिला कलक्टर अविचल चतुर्वेदी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में अवगत करवाया गया कि सैनी, माली, कुशवाहा जातियों को अलग से 12 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए। महात्मा फूले कल्याण बोर्ड का गठन किया जाए। महात्मा फुले फाउंडेशन बनाया जाए। ठेले लगाने वाले समाज बंधुओं को स्थाई जगह दी जाए। महात्मा फुले बागवानी विकास बोर्ड का गठन हो। महात्मा फुले दंपति के नाम से विश्वविद्यालयों में शोध केन्द्रों की स्थापना हो। महात्मा फुले जयंती पर अवकाश घोषित हो। भारतीय सेना में सैनी रेजिमेंट का गठन हो। सैनी, माली, कुशवाह समाज के लिए अलग एक्ट हो। फुले दम्पति के नाम से संग्रहालय का निर्माण करवाया जाए। महात्मा फुले दम्पति को भारत रत्न से नवाजने के लिए केन्द्र सरकार को प्रस्ताव भेजा जाए आदि 11 सूत्री मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया। जिसे जल्द पूरी करने की मांग रखी गई। कार्यक्रम संयोजक जय प्रकाश सैनी ने बताया कि यदि समय रहते मांगे नहीं मानी जाती हैं तो सितंबर में जयपुर में बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button