चुरूताजा खबर

जिला कलक्टर सिहाग ने बूंटिया एवं भामासी में सुनीं ग्रामीणों की समस्याएं

Avertisement

माह के प्रथम गुरुवार को होने वाली जन सुनवाई में पहुंचे जिला कलक्टर

चूरू, जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग माह के प्रथम गुरुवार को होने वाली ग्राम पंचायत स्तरीय जन सुनवाई में ग्राम पंचायत बूंटिया और भामासी पहुंचे तथा लोगों की समस्याएं सुनीं। दोनों ग्राम पंचायतों में राजीव गांधी आईटी सेंटर पर हुई इस जन सुनवाई में इस मौके पर पुलिस अधीक्षक दिगंत आनंद, तहसीलदार धीरज झाझड़िया समेत अधिकारीगण मौजूद रहे। जिला कलक्टर ने इस दौरान तसल्ली से विभिन्न विभागों की ओर से संचालित सेवाओं, सुविधाओं और योजनाओं के संबंध में ग्रामीणों से फीडबैक लिया और ग्रामीणों की समस्याएं सुनकर मौके पर ही उनके निस्तारण के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। ग्रामीणों ने इस मौके पेयजल, पशुपालन, बरसाती पानी की निकासी से जुड़ी अपनी समस्याएं जिला कलक्टर को बताईं। जिला कलक्टर ने कहा कि शासन-प्रशासन आमजन की समस्याओं की सुनवाई के लिए बेहद संवेदनशील है तथा आमजन की जन सुनवाई के लिए इस त्रि स्तरीय व्यवस्था के अलावा अनेक प्लेटफॉर्म मुहैया कराए जा रहे हैं।

बूंटिया में आयोजित जन सुनवाई में दिलीप नेहरा ने विद्यालय क्षेत्र में बरसाती पानी एकत्र होने की समस्या की ओर ध्यान आकर्षित किया, जिस पर जिला कलक्टर ने सरपंच बंशीधर तथा ग्राम विकास अधिकारी ओमप्रकाश शर्मा विभाग के अधिकारी को निर्देश दिए कि समस्या का क्या समुचित समाधान हो सकता है, उसके हिसाब से एस्टीमेट बनाकर पानी निकासी की व्यवस्था करें। जिला कलक्टर ने कहा कि यदि किसी पात्र ग्रामीण को किसी योजना का लाभ किसी कारण से नहीं मिल पा रहा है, तो वे इस जन सुनवाई में अवश्य बताएं। उन्होंने संभावित सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्रकरणों आदि के बारे में पूछा जिस पर ग्रामीणों ने बताया कि इस तरह का कोई प्रकरण पेंडिंग नहीं है। उन्होंने तीन-चार युवकों के विकलांग प्रमाण पत्र बनाए जाने के अनुरोध पर एएनएम तथा सरपंच से कहा कि इन लोगों के आवेदन करवाएं। बूंटिया में ग्रामीणों ने पशुपालन विभाग की सेवाओं के प्रति असंतोष जाहिर किया, जिस पर जिला कलक्टर ने वहां मौजूद विभागीय कार्मिक को फटकार लगाई और कहा कि अपनी सेवाओं में सुधार करें, पशुपालकों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं होनी चाहिए और राज्य सरकार की ओर से दी जा रही सुविधाओं-सेवाओं का पूरा लाभ मिलना चाहिए। जिला कलक्टर ने इस दौरान महिला स्वयं सहायता समूह सदस्यों को दिए जा रहे प्रशिक्षण तथा कम्प्यूटर सखी नवाचार की जानकारी दी और कहा कि विद्यालयों में इंटरनेट सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। पुलिस अधीक्षक दिगंत आनंद ने ग्रामीणों को कानून व्यवस्था को लेकर जागरुक किया और कहा कि किसी प्रकार की शिकायत या लंबित प्रकरण के संबंध में ग्रामीण चर्चा कर सकते हैं।

भामासी में जन सुनवाई के दौरान एक वृद्ध महिला ने बेटोें द्वारा देखभाल नहीं किए जाने की शिकायत की, जिस पर जिला कलक्टर ने सीडीईओ तथा तहसीलदार से इस संबंध में भरण-पोषण अधिनियम में कार्यवाही के लिए कहा। ग्रामीणों ने पशुपालन विभाग के कार्मिक द्वारा समुचित सेवाएं नहीं देने की शिकायत की, जिस पर जिला कलक्टर ने इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिए। हरदयाल सिंह ने ग्राम पंचायत की ओर से किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी दी। इस दौरान अतिरिक्त विकास अधिकारी प्रेम कुमार शर्मा, सहायक विकास अधिकारी सोहन लाल धायल सहित संबंधित अधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीण मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button